ताप्ती तट पर होगा शहीद सूबेदार गुरुदयाल साहू का अंतिम संस्कार,सैनिक सम्मान के साथ दी जाएगी अंतिम विदाई

मुलताई -लद्दाख में हुए सड़क हादसे में 7 जवान शहीद हो गए। इन शहीदों में बैतूल जिले की माटी का लाल सूबेदार गुरुदयाल साहू भी शामिल है। इस घटना की जानकारी के बाद संपूर्ण जिले सहित उनके गृह ग्राम बिसनूर में मातम का माहौल है।

बिसनूर निवासीअतुल ठाकरे ने बताया कि शहीद सूबेदार गुरुदयाल साहू की जानकारी लगने के बाद से संपूर्ण क्षेत्र में शोक का माहौल है। ग्राम बिसनूर में शहीद सूबेदार की माता पिता छोटा भाई एवं छोटे भाई की पत्नी रहती है।सूबेदार की पत्नी एवं 11 वर्ष की लड़की है, जो बैतूल में अपने माता के साथ रहती है। सूबेदार गुरुदयाल साहू 22 मराठा लाइट इन्फेंट्री रेजीमेंट में पोस्टेड थे। सूबेदार साहू  ने 9 जुलाई 1999 को सेना ज्वाइन की थी। शहीद  सूबेदार का पार्थिव शरीर कल 29 मई 2022 सुबह 11:00 बजे नागपुर एयरपोर्ट पर पहुंचेगा वहां से उनको सड़क के रास्ते उनके निवास बिसनूर पहुंचेगा। जहां उनको सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी।

गुरुदयाल साहू के छोटे भाई के अनुसार उनके शव का अंतिम संस्कार पारसढोह ताप्ती तट पर किया जाएगा। ज्ञात हो कि लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे हुए हादसे में भारतीय सेना के 26 जवानों से भरी एक बस सड़क से फिसलकर श्योक नदी में जा गिरी इस घटना में अब तक 7 जवानों की जान चली गई है ।हालांकि बाकी सैनिकों की हालत भी गंभीर बताई जा रही है। घायलों को हर संभव मेडिकल फैसिलिटी दी जा रही है। दरअसल ये हादसा बस पर से ड्राइवर के कंट्रोल खोने की वजह से हुआ। जैसे ही ड्राइवर ने बस पर से अपना नियंत्रण खोया, वैसे ही बस सड़क के किनारे से फिसलकर नदी में जा गिरी।लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में 27 मई 2022 को सेना के एक दल को परतापुर ट्रांजिट कैंप से सब सैक्टर हनीफ के अग्रिम मोर्चे की ओर ले जाते समय एक बस फिसलकर श्योक नदी में करीब 50 से 60 फीट नीचे गिरकर दुर्घटनाग्रस्त हुई थीं।जिस में बैठे सेना के 26 जवान बुरी तरह से घायल हुए और 7 जवान शहीद हो गए। जिनमें से जिले के सपूत सूबेदार गुरुदयाल साहू भी शहीद हो गए।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here