ताप्ती तट से निकली भगवान जगन्नाथ बलभद्र बहन सुभद्रा की रथ यात्रा,जगह-जगह हुआ भव्य स्वागत

मुलताई – पुरी रथ यात्रा की तर्ज पर प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी ताप्ती तट जगदीश मंदिर से रथ यात्रा निकाली गई। जिसका जगह-जगह भव्य स्वागत हुआ। यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने रथ को खींचकर मान्यता अनुसार असीम पुण्य की प्राप्ति की, इस यात्रा में महिलाओं ने भी बड़ी संख्या में भाग लिया ।

यह रथ यात्रा  जगदीश मंदिर मूर्ति ट्रस्ट के व्यवस्थापक खंडेलवाल समाज द्वारा प्रतिवर्ष निकाली जाती है जो कि पवित्र नगरी मुलताई में लगभग 15 वर्षों से निरंतर निकाली जा रही है। सामाजिक बंधुओं ने बताया कि यह रथ यात्रा जगन्नाथ पुरी की तर्ज पर निकाली जाती है मान्यता है कि इस दिन भगवान जगन्नाथ  बलभद्र अपनी लाडली बहन सुभद्रा के साथ नगर भ्रमण पर निकले थे जिसकी याद में यह रथयात्रा निकाली जाती है। मुलताई जगदीश मंदिर में स्थित भगवान जगन्नाथ, बलभद्र, बहन सुभद्रा की प्रतिमा भी लगभग 200 वर्ष प्राचीन बताई जाती है जो कि पूरी से बुलाई गई थी।

रथयात्रा ताप्ती तट से निकलकर जयस्तंभ चौक, फावारा चौक, गांधी चौक होते हुए पुनः ताप्ती तट पर समाप्त हुई जिसमें जगह-जगह सामाजिक बंधुओं और नगर के सभी वर्ग समाज के लोगों ने भगवान जगन्नाथ की जगह जगह पूजा अर्चना की और धार्मिक मान्यता अनुसार पुण्य लाभ अर्जित किया।ताप्ती तट पर स्थित जगदीश मंदिर की बात करें तो यह अत्यंत प्राचीन मंदिरों में से एक है जिसके सर्वेराकार बृजकिशोर खंडेलवाल है । इस रथयात्रा का श्रद्धालुओं को वर्ष भर इंतजार रहता है इस यात्रा में शामिल होने दूर दूर से लोग आते हैं। इस वर्ष भी  पूरे उत्साह के साथ यात्रा निकाली गई जगह-जगह रंगोली एवं पुष्प वर्षा कर भगवान जगन्नाथ के जयकारे लगाए गए।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here