दिव्यांग शिविर में बच्चे करते रहे डॉक्टरों का इंतजार,दिव्यांग चिकित्सीय शिविर मे अव्यवस्था

0
210

मुलताई- नाका नंबर 1 पर स्थित आग्लशाला में बीआरसी के माध्यम से विकासखंड स्तरीय दिव्यांग चिकित्सीय शिविर का आयोजन किया गया। शिविर प्रारंभ होने का समय 11:00 बजे था, किंतु बैतूल से डॉक्टरों की टीम लगभग 4 बजे मुलताई पहुंची।

दिव्यांग बच्चों एवं उनके परिजनों को शिविर में पहुंचने का समय 11:00 बजे तक का दिया गया था। अनेक परिवार सुबह 10 बजे से ही इस शिविर में अपने विकलांग बच्चों को लेकर पहुंच गए थे । शिविर में 159 बच्चियों का रजिस्ट्रेशन किया जा चुका था और इन सभी बच्चों का बैतूल से आने वाले डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जाना था, किंतु एक महिला डॉक्टर 3:30 बजे पहुंची इसके बाद लगभग 4:00 बजे तक डॉक्टर शिविर में पहुंचे।

जिसके कारण विकलांग बच्चों एवं उनके परिजनों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ा । जब हमने शिविर स्थल पर जाकर देखा तो वहां पर भी अव्यवस्थाओं का आलम था । लोग अपने बच्चों को लेकर सुबह 11 बजे से बैठे थे और परेशान हो रहे थे। इधर 3:00 बजे तक शिविर में बैठने के लिए चेयर तक नहीं थी जो बाद में बुलाई गई। बार-बार पानी आने लगा था और लोगों को पानी से बचने के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा था। शासकीय नवीन उच्च, माध्यमिक विद्यालय में विकासखंड मुलताई के कक्षा 1 से 8 तक के 203 दिव्यांग अध्ययनरत बच्चों का मेडिकल बोर्ड बैतूल एवं भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम जबलपुर द्वारा मुल्यांकन किया जाना था।

जिसमें से 3:30 बजे तक 203 दिव्यांग बच्चों में से 159 बच्चों की उपस्थिति दर्ज हो चुकी थी। पीयूष डोगरदिए निवासी चंदोरा आंख एवं पैर से दिव्यांग ने बताया कि वह सुबह 11बजे से आकर बैठा है डॉक्टर साहब का इंतजार कर रहा है। इसी प्रकार उषा सुनील साहू निवासी जाम भी सुबह ही बैठी डॉक्टरों की टीम का शिविर में पहुंचने का इंतजार कर रही थी। परेशान होने वाले लोगों ने बताया कि विभागीय शिविरों को लेकर अधिकारी औपचारिकता तक निभाते भी दिखाई नहीं देते यह कारण है कि लोग शिविरों में आने से कतराने लगे है।

इनका कहना

पहले हमने ऊपर के तीन कमरों में यह व्यवस्था की थी बाद में हमें व्यवस्था बदलनी पड़ी इसलिए अभी चेयर वगैरह बुलाई गई है 3 बजे डॉक्टरों से चर्चा हुई थी टीम बैतूल से निकल गई है 1 घंटे में मुलताई पहुंचेगी ।
आशीष चंद्र शर्मा
बीआरसी मुलताई


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here