बड़े बिजली बिलों को लेकर सड़कों पर उतरने को विवश ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 23 हजार उपभोक्ता परेशान

0
39

मुलताई- क्षेत्र में बड़े हुए विद्युत बिलों को लेकर हाहाकार मचा हुआ है प्रतिदिन बड़ी संख्या में किसान मुलताई पहुंचकर एसडीएम एवं विद्युत विभाग के अधिकारियों से बिल कम किए जाने की गुहार लगा रहे हैं

किंतु चिंताजनक विषय यह है कि विद्युत विभाग के आला अधिकारियों से संतोषजनक उत्तर नही मिल पा रहा है। विद्युत उपभोक्ता कहते हैं कि अब हम बढ़े हुए बिजली बिलों की समस्या को लेकर सड़कों पर उतरने के लिए विवश है ।जब हमने इस संबंध में उपस्थित अधिकारियों से चर्चा की तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए और वह यह कि अधिकारियों तक को यह नहीं मालूम कि इतनी बड़ी संख्या में बढ़े हुए बिल लोगों को क्यों प्राप्त हुए हैं।

संबंधित अधिकारी कहते हैं हम खुद यह पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि ऐसा क्यों हुआ बढ़े हुए बिल क्यों आए। इधर जनता के धैर्य का बांध टूटता जा रहा है जिसको लेकर राजनीतिक सरगर्मियां भी तेज हो गई है। वलनी,पारेगांव जनपद क्षेत्र की जनपद सदस्य पृथ्वी गोलू ठाकुर ने बताया कि उनके जनपद क्षेत्र में अधिकांश लोगों के बिल 100 और 200 के स्थान पर 3000 हजार आए हैं एक ओर जहां किसान अपनी फसलों को लेकर चिंतित है वहीं बढ़े हुए बिलों ने क्षेत्र के किसानों की समस्याएं बढ़ा दी है दूसरी ओर इस संबंध में जब अधिकारियों से चर्चा की तो वह संपूर्ण मामले से अनभिज्ञता व्यक्त करते हैं।वलनी,पारेगांव ग्राम और सहित आधा दर्जन ग्रामों के सैकड़ों लोगों ने मुलताई पहुंचकर वरिष्ठ अधिकारियों को अपने बिल और ज्ञापन सौप बढ़े हुए बिलों को कम करने की मांग की है। मुलताई क्षेत्र में अब तक लगभग 100 से अधिक ग्रामों की किसान अपनी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। अब तक मुलताई पहुंचने वालों की संख्या हजारों में है। किंतु मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के आला अधिकारी आश्वासन देना तो दूर कुछ कहने की स्थिति में दिखाई नहीं देते।

सॉफ्टवेयर के कारण हो सकती है गड़बड़ी

हमने जब बढ़े हुए बिजली बिलों के संबंध में मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के इंजीनियर नंदकिशोर रंहगडाले से चर्चा की तो उन्होंने कहा कि विभाग भी गड़बड़ी कहां से हुई है यह जानने का प्रयास कर रहा है। विद्युत विभाग एनजीबी सॉफ्टवेयर पर कार्य करता है यह सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी भी हो सकती है । इस मामले में यह देखा गया है कि बढ़े हुए बिल उन्हीं लोगों के आए हैं जिनके मीटर या तो खराब है या जिन्हें एवरेज आते हैं। जहां मीटर रीडिंग आधारित बिल आते हैं उसमें कोई गड़बड़ी नहीं है। मुलताई क्षेत्र में ऐसे विद्युत उपभोक्ता जिन्हें एवरेज बिल आता है उनकी संख्या 22 से 23 हजार है । इसका अभिप्राय यह है कि संपूर्ण क्षेत्र में अधिक बिल से प्रभावित होने वाले उपभोक्ताओं की संख्या 22 से 23 हजार हो सकती है जोकिंग बड़ी तादाद है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here