सिरकटी महिला की लाश की गुत्थी सुलझी ,पति और पुत्र ने मिलकर की थी हत्या 

0
1318

संजय द्विवेदी

बैतूल थाना रानीपुर में  हनुमान डोल मंदिर के पुल के नीचे मिली सिर कटी लाश की गुत्थी बैतूल पुलिस ने सुलझा ली है। पुलिस अधीक्षक  सिमाला प्रसाद के नेत्तृव में,अति. पुलिस अधीक्षक  नीरज सोनी के मार्गदर्शन में, एस.डी.ओ.पी सारणी  रोशन जैन की निगरानी में थाना रानीपुर द्वारा सिर कटी लाश के मामले की गम्भीरता को देखते हुए

अपराध पंजीबध्द कर आरोपी की तलाश हेतु सायबर की मदद लेकर घटना के दौरान वहां से गुजरे सैकड़ों लोगों से पुलिस अधीक्षक व्दारा स्वयं सम्पूर्ण टीम के साथ पूछताछ की गई एवं साथ ही साथ थाना क्षेत्र के समस्त ग्रामों में अपराध के सम्बन्ध में पूछताछ की गई परन्तु कोई जानकारी नही लगने से पुलिस अधीक्षक द्वारा विवेचना को वृहद स्तर पर ले जाने के लिये निर्देश देते हुए आरोपी तलाश हेतु अधिकारीयों की एस.आई.टी का गठन किया गया

एस.आई.टी व्दारा बैतूल जिले व बैतूल जिले के सीमावर्ती जिले होशंगाबाद, छिंदवाडा, हरदा खंडवा, खरगौन के अलावा भोपाल, इंदौर के साथ साथ महाराष्ट्र के सीमावर्ती जिलें अमरावती, नागपुर, अकोला व अन्य जिलों से गुम महिलाओं की जानकारी प्राप्त की गई जिसमें गुम 500 से भी ज्यादा महिलाओं की जानकारी प्राप्त कर मृत महिला की पहचान करने का प्रयास किया गया। उक्त कार्यवाही में विभिन्न व्यक्तियों से पूछताछ की गई।

ऐसे मिला महिला के अज्ञात सिर कटे शव का सुराग

थाना गंज में एक महिला का शंकाप्रद गुम इंसान कायम होने पर पुलिस व्दारा गुम इंसान की जांच प्रारम्भ की गई जिसमें गुम इंसान के पति शैलेंद्र राजपूत व परिजनों को पूछताछ हेतु थाना तलब किया गया पर शैलेंद्र रंग पंचमी के रोज से ही अपने घर से फरार हो गया था जिससे पुलिस का शैलेंद्र पर शक और गहरा गया शैलेंद्र की तलाश हेतु मुखबीर लगाये गये एवं उसका पुराना आपराधिक रिकार्ड चैक करने पर पाया गया की शैलेंद्र की पहली पत्नी की मृत्यु भी संदिग्ध परिस्थितियों में होने से शैलेद्र के खिलाफ थाना कोतवाली में अपराध दहेज प्रतिशेध अधिनियम का पंजीबद्ध किया गया था। वर्ष 2010 में शैलेंद्र तथाअन्य के विरुद्ध अप.क्र. 454,455/10 धारा 3,5, लोक संघ निवारण अधिनियम व 379, 120 बी भा.द.वि का दर्ज किया गया था। शैलेंद्र की तलाश हेतु सायबर की मदद से शैलेंद्र की काल डिटेल्स् से शैलेंद्र का पूणे, महाराष्ट्र में होना पाया गया जिसके चलते त्वरित पूणे टीम रवाना की गई जिनके व्दारा संदेही को श्रीनिवास कम्पनी, नवलखा उमरी के आसपास तलाश करते पकड़ा व आज दिनांक 23.03.23 वापस बैतूल लेकर आये ।

अपराधी ने आरी से काटा था मृत पत्नी का सर

आरोपी व्दारा पूछताछ में जल्द ही अपराध करना स्वीकार कर बताया कि दिनांक 07.12.22 को उसके गंज स्थित घर पर उसका उसकी पत्नी मृतिका राधा राजपूत से विवाद होने से उसने फावड़े से मारपीट की थी जिससे मृतिका की मृत्यु हो गई बाद आरोपी व्दारा मृतिका की लाश छुपाने के लिये दिन भर लाश अपने घर पर ही छुपाये रखा बाद रात को अपनी निजी कार से अपने बेटे के साथ मृतिका को हनुमान डोल मंदिर की पुलिया के पास ले जाकर फेंक दिया

और वही मृतिका का सिर अपने बेटे की मदद से आरी से काट कर अलग कर दिया व सिर को ग्राम निशाना, शाहपुर में पेट्रोल डालकर जलाना बताया घटना में आरोपी व्दारा बताया गया कि आरोपी शैलेद्र रंगपंचमी के दिन से फरार होने के बाद से गोविन्द वरकडे के कत्लढाना स्थित घर पर छुप कर रह रहा था एवं गोविन्द वरकडे को उसके द्वारा हत्या के सम्बन्ध में इसी दौरान बताया गया था व गोविन्द व्दारा ही उसे पूणे से छुपकर रहने के लिये व्यवस्था कराई गई थी ।

इनकी रही मुख्य भूमिका

    थाना प्रभारी श्रीमति अपाला सिंह, निरी.रविकान्त डेहरिया, उनि मोहित दुबे,उनि आबिद अंसारी (फिंगर शाखा), उनि राकेश सरेयाम, उनि राजेंद्र राजवंशी, उनि वंशज श्रीवास्तव, सउनि दीपक मालवी, प्र.आर तरुण पटेल व आर. राजेंद्र धाडसे, आर बलराम राजपूत, आर दीपेंद्र सिंह व आर राकेश करपे ।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here