300 से भी अधिक प्रतिमाओं का हुआ बुकाखेड़ी बांध में विसर्जनअपने साधनों से भी पहुंचे लोग

0
309

मुलताई :-  पवित्र नगरी में घर घर में विराजे पार्वती नंदन गजानन गणेश का विसर्जन हो गया। बुकाखेड़ी बांध में बीते 2 दिनों में 300 से अधिक प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। जिसमें उल्लेखनीय पहलू यह है की लोग स्वयं अपने साधनों से प्रतिमाओं को लेकर  बुकाखेड़ी बांध पहुंचे।

हालांकि नगर पालिका ने ताप्ती तट से प्रतिमाओं को बुकाखेड़ी बांध  तक ले जाने की व्यवस्था कर रखी थी जिसके माध्यम से लगभग 100 प्रतिमाएं बांध तक पहुंचाई गई।जहां पूरे विधि विधान के साथ विघ्नहर्ता गणेश का विसर्जन किया गया। नगर पालिका ने ताप्ती तट पर प्रतिमाओं को जमा करने की व्यवस्था कर रखी थी जहां से नगरपालिका के साधनों से भी प्रतिमाएं बांध तक पहुंचाई गई ऐसी प्रतिमाओं की संख्या लगभग 100 थी।

ताप्ती जल को प्रदूषण से बचाने की मंशा से 8 वर्ष पूर्व बुकाखेड़ी बांध में प्रतिभाओं का विसर्जन प्रारंभ किया गया था तब  इसको लेकर अनेक शंकाएं थी किंतु नागरिकों के सहयोग से अब विसर्जन स्थल पर अलग ही धार्मिक माहौल होता है। एक साथ कतार में प्रतिमाओं की होती आरती, शंख की ध्वनि और लगते जय कारे, अलग ही वातावरण में ले जाते हैं। अपने साधन से प्रतिमा विसर्जन करने पहुंचे नमन अग्रवाल बताते हैं कि नगरपालिका ने इस वर्ष पिछले साल की तुलना में बेहतर व्यवस्था कर रखी है ।

नगर पालिका ने की बेहतरीन विसर्जन व्यवस्था

मुलताई नगर पालिका के उपयंत्री पंकज धुर्वे को इस वर्ष विसर्जन व्यवस्था का प्रभारी बनाया गया था उन्होंने  पिछले वर्ष की तुलना में ज्यादा बेहतरीन विसर्जन व्यवस्था को अंजाम दिया जिसकी सभी ने तारीफ की ।पंकज धुर्वे ने बताया कि मूर्ति विसर्जन मे किसी को दिक्कत ना हो इसके व्यापक इंतजाम किए गए है सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए नाविक की टीम लगाई गई है ।

सीसीटीवी कैमरा के साथ ही ड्रोन कैमरे  से भी संपूर्ण हालात पर नजर रखी जा रही है। पार्किंग व्यवस्था के साथ ही आरती स्टाल बनाए गए हैं। जहां जगह-जगह कर्मचारी तैनात है विसर्जन के दिशा निर्देश माइक से निरंतर लोगों को दिए जा रहे हैं। इसमें सभी के सहयोग से यह कार्य पूर्ण हो पाया है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here