नगर मे घुम रहे बे-सहारा गौ वंश को संरक्षण दे पालिका ,वरना धार्मिक संगठन करेंगे उग्र आंदोलन

0
226

मुलताई – जिले में मवेशियों पर आई लंपी वायरस बीमारी की आहट के बावजूद भी मुलताई नगर मे आवारा मवेशियों की समस्या कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही है। जिसे देखते हुए धार्मिक संगठनों ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी को ज्ञापन सौंप नगर में घूमते बेसहारा गोवंश को पकड़कर कांजी हाउस में संरक्षण देने की मांग की है

और ऐसे ना किए जाने पर धार्मिक संगठनों से जुड़े गौ क्रांति दल के गणेश साहू डीके कालभोर एव बब्बल सेवतकर ने उग्र आंदोलन एवं आमरण अनशन की चेतावनी दी है। संगठनों ने  सौपे  गए इस ज्ञापन में कहा है कि नगर मे कई दिनो से लगभग 200 गौ वंश रोडो पर घुमते नजर आ रहे है चारा पानी के अभाव मे उनकी मृत्यु होते जा रहीं है जिससे देशी गौवंश नष्ट हो रहा है

कई बार दुर्घटना से गायों की मृत्यु हो जाती है एवं नगर मे उनके घुममे से ट्राफिक व्यवस्था बाजार की व्यवस्था व अन्य आयोजनो मे भारी परेशानी का सामना नगर वासीयो को करना पड़ता है व प्लास्टीक एवं अवशिष्ट पर्दाथ खाने से अस्वस्थ गौवंश को निरंतर हिन्दु संगठन के लोग समय समय पर को हास्पीटल पहुचाते रहे है ।नगर पालिका से निवेदन है कि गौ वंश की संरक्षण हेतू उन्हे पकडकर कांजी हाउस मे रखे और वहा से अन्य किसी गौशाला को उनके संरक्षण के लिये भिजवाए या किसानो को कुषि कार्य हेतू गौ वंश दिया जाये जिससे उनका संरक्षण सम्वर्धन हो सके।

अपनों से अपनी बात

मुलताई नगर में आवारा मवेशियों की समस्या वर्षों से है और नगरपालिका इस समस्या के समाधान के बजाय समस्या समाधान के लिए सामग्री खरीदने में व्यस्त रही है। पिछले दिनों लगभग 4 लाख रुपए की लागत से काऊ कैचर खरीदा गया। इसके पहले लाखों रुपए खर्च कर बीरुल रोड पर कांजी हाउस बनाया गया किंतु नगर में मवेशियों का बीमारी और दुर्घटना से मरने का सिलसिला जारी रहा। लोग सड़कों पर चलते वक्त परेशान होते रहे । बाजार हाट में व्यापारियों का आवारा मवेशी जीना दूभर करते रहे किंतु इन सबके बावजूद ना तो नगर पालिका कभी आवारा मवेशियों के स्थाई समाधान के लिए गंभीर हुई और ना ही संगठन कभी इतने गंभीर दिखाई दिए पहली बार संगठनों ने अपना रोष व्यक्त किया है। अब यह देखना रोचक होगा कि यह समस्या का समाधान किस हद तक निकल पाता है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here